धर्म और विरासत की कहानी कह रही है पर्यटन विभाग की प्रदर्शनी…

0
37

पंजाब की सांस्कृतिक वस्तुओं के नमूनों के साथ सजाई गयी है स्टाल

राज्य के सभी जिलों के इतिहास संबंधी वितरित किया जा रहा है साहित्य

रोजाना सैंकड़ो श्रद्धालु ले रहे हैं प्रदर्शनी का आनंद

चंडीगढ़/सुल्तानपुर लोधी। गुरू नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के सम्बन्ध में पंजाब सरकार की तरफ से सुल्तानपुर लोधी में करवाए जा रहे विशेष समागम जहाँ संगत को गुरूओं के इतिहास से अवगत करवा रहे हैं वहीं पंजाब की विरासत की कहानी भी कह रहे हैं। इन विशेष समागमों के दौरान पंजाब स्माल स्केल इंडस्ट्री एंड एक्सपोर्ट कोर्पोरेशन के प्रदर्शनी हाल में पंजाब सरकार के पर्यटन और सांस्कृतिक मामले विभाग की प्रदर्शनी धर्म, विरासत और पंजाबी सभ्याचार का अनोखा सुमेल प्रतीत हो रही है।

पर्यटन और सांस्कृतिक मामले संबंधी विभाग के मंत्री चरणजीत सिंंह चन्नी के नेतृत्व में लगी प्रदर्शनी का बाहरी दृश्य जहाँ पंजाब की विरासत की कहानी कह रहा है वहीं इसकी स्टाल पर वितरित किया जा रहा साहित्य प्रदेश के सभी जिलों के प्रमुख स्थानों का इतिहास विस्तार में बयान करता है। इस संबंधी बात करते हुए सुल्तानपुर लोधी के विधायक श्री नवतेज सिंह चीमा ने कहा कि पंजाब में अनेक विरासती और ऐतिहासिक स्थान हैं, जो पर्यटन के पक्ष से बहुत अहमीयत रखते हैं और इन स्थानों के बारे में अधिक से अधिक लोगों को अवगत करवाने के लिए यह प्रदर्शनी लगाई गई है। कपूरथला के डिप्टी कमिश्नर श्री डीपीएस खरबन्दा ने बताया कि इस प्रदर्शनी हाल में कई सरकारी विभागों ने अपनी स्टालें लगाईं हैं, जिनके माध्यम से श्रद्धालुओं को बहुत ही लाभदायक जानकारी दी जा रही है और वह यहाँ से खरीदारी भी कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि गुरू नानक देव जी के 550वें प्रकाश दिवस को समर्पित पर्यटन विभाग की नुमाइश का बाहरी अक्स कुछ इस तरह से तैयार किया गया है कि दर्शकों को पंजाब के पुरातन विरसे और पंजाबी संस्कृति की झलक मिले। इस प्रदर्शनी के दरवाजों को पक्खियों, चरखों और कृषि यंत्रों के नमूनों के साथ सजाया गया है। अंदर दाखिल होते ही दीवारों पर लगी स्क्रीनों पर नजर पड़ती हैं, जिनके द्वारा विभिन्न धार्मिक और ऐतिहासिक स्थानों की जानकारी दी जा रही है। यह प्रदर्शनी 12 नवंबर तक जारी रहेगी।

पर्यटन अधिकारी अंकुर कुमार ने बताया कि इस प्रदर्शनी में पंजाब के हर जिले से सम्बन्धित छोटी पुस्तकें, पूरे पंजाब संबंधी पुस्तकें और सुल्तानपुर लोधी के बारे में पुस्तकें वितरित की जा रही हैं, जिनमें जिले अनुसार नक्शे, प्रमुख स्थान और उनका इतिहास दिखाया गया है। इसके अलावा प्रदर्शनी में आने वालों के लिए दो विशेष किताबें रखी गई हैं। इनमें से एक किताब में पंजाब की जलगाहों संबंधी विस्तृत जानकारी तस्वीरों सहित और दूसरी में विभिन्न जिलों के प्रमुख ऐतिहासिक स्थानों को तस्वीरों के द्वारा बयान किया गया है। उन्होंने बताया कि रोजाना सैंकड़ो लोग यह प्रदर्शनी देखने आते हैं। प्रदर्शनी देखने आने वाले लोगों से फीडबैक भी लिया जाता है जिससे वह इस प्रदर्शनी, राज्य और इस पवित्र नगरी के पर्यटनीय स्थानों संबंधी अपने अनुभव सांझे कर सकें।

प्रदर्शनी देखने आए गुरदासपुर जिले के ज्ञान सिंह ने बताया कि इस प्रदर्शनी में वितरित कियेे जा रहे साहित्य से वह बहुत प्रभावित हुआ, जिसमें सभी जिलों के प्रमुख स्थानों संबंधी बताया गया है, जिनके बारे में उस जिले के भी बहुत से लोगों को पता नहीं होता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here