टमाटर ,प्याज ,खाद्य पदार्थ , गैस ,पेट्रोल ,डीजल के दाम आसमान छू रहे हैं

0
36

ऊना (रोहित शर्मा)। जब कांग्रेस की सरकार थी, तब महंगाई भाजपा के लोगों को नजर आती थी, लेकिन आज स्वयं प्रदेश में काबिज होने के बाद वही महंगाई जनता के समक्ष विकास के रूप में परोसी जा रही है, जो जनता के साथ कुठाराघात है। यह बात जिला कांग्रेस ऊना के अध्यक्ष राजेश पराशर राजू ने कही। रविवार को जारी बयान में राजेश पराशर ने कहा कि खाद्य से लेकर पेट्रोलियम पदार्थो का दाम उच्चतम स्तर पर पहुंच गया है, इसके बाद भी भारतीय जनता पार्टी के नेता, कार्यकर्ता भी बोलने के लिए तैयार नहीं हैं। यह बेहद दुर्भाग्यजनक स्थिति है और पूरे देश में इसके खिलाफ वातावरण बन रहा है। उन्होंने कहा कि प्याज व टमाटर के दाम आसमान छू रहे है और प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर प्याज व टमाटर न खाने की बात कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था भी बिगड़ चुकी है। मारूति, हीरो जैसी बड़ी कंपनियां को काफी नुक्सान झेलना पड़ रहा है। हालत यह है कि मोदी सरकार में रोजगार भी बेरोजगार हो रहा है। उन्होंने कहा कि जनता के हितों की आवाज को लेकर कांग्रेस ने बुगल बजा दिया है। इसी को लेकर जिला ऊना में 11 नवंबर को ऊना मुख्यालय पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा प्रदर्शन किया जा रहा है, जिसमें जिला भर से कांग्रेसी हिस्सा लेंगे। रैली में पीसीसी उपाध्यक्ष लखविंद्र राणा, वीरेंद्र धर्माणी, प्रदेश प्रभारी रजनी पाटिल, महासचिव विनय कुमार, विपक्ष के नेता मुकेश अग्रिहोत्री, ऊना सदर के विधायक सतपाल सिंह रायजादा, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप कुमार, पूर्व विधायक राकेश कालिया, कुटलैहड़ से विवेक शर्मा (विक्कू), पीसीसी सचिव सतीश शर्मा, सतीश बिट्टू व संजीव कंवर सहित अन्य कांग्रेसी मौजूद रहेंगे। राजू ने कहा कि 11 नवंबर को भी प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर भी ऊना दौरे पर आ रहे हैं, ऐसे में मुख्यमंत्री को बढ़ रही महंगाई पर जवाब देना चाहिए। उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार के दौरान महंगाई को लेकर हर पल सड़कों पर उतरने वाले भाजापाइयों की जुबान बंद क्यों होकर रह गई है। उन्होंने कहा कि पेट्रोल-डीजल के दाम आसमान छू रहे हैं, जिसकी वजह से आम आदमी पर भार पड़ रहा है। देश में यह तो बहुत दुर्भाग्यजनक स्थिति है जवान मरे या किसान मरे इस से सरकार को कोई लेना देना नहीं है। उन्होंने कहा कि देश के मोदी सरकार बढ़ती महंगाई को रोक पाने में नाकाम हुई है। देश की आम जनता महंगाई से त्रस्त हे। आज दालों के रेट 200 के आसपास है, जबकि जब यूपीए सरकार सत्ता में थी तब 70-80 के बीच दालों के रेट थे। उन्होंने केंद्र सरकार को घेरते हुए कहा कि मोदी सरकार आर्थिक नीतियों पर फेल हो गयी है, इसी कारण आज देश में महंगाई अत्यधिक बढ़ती जा रही हे। मोदी सरकार के आने आम आदमी की जेब पर फर्क पड़ा है। देश का मध्यम व गरीब वर्ग अपने आप को ठगा हुआ महसूस कर रहा है। मोदी सरकार अपने वादों पर यू-टर्न ले रही है और बीजेपी के नेता महंगाई पर चर्चा की बजाय सांप्रदयिकतापूर्ण बयानबाजी करके महंगाई के मुद्दे से देश की जनता का ध्यान भटका रहे है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here