हिमाचल में शीतलहर के साथ बर्फबारी के आसार….

0
151

शिमला। हिमाचल प्रदेश में आगामी दिनों में बारिश और बर्फबारी के साथ शीतलहर का प्रकोप बढ़ने के आसार हैं। मौसम विभाग ने शुक्रवार को अपने पूर्वानुमान में यह बात कही। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के एक अधिकारी ने कहा, “रविवार तक कुछ क्षेत्रों में भारी बर्फबारी और बारिश होने की संभावना है।”उन्होंने कहा कि शिमला, कुल्लू, किन्नौर, लाहौल-स्पीति, सिरमौर और चंबा जिलों के ऊंचे पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी होने की संभावना है।

मौसम विभाग के पूवार्नुमान में कहा गया है कि पश्चिमी विक्षोभ-भूमध्य सागर से उत्पन्न होने वाली तूफान अफगानिस्तान-पाकिस्तान क्षेत्र से गुजरते हुए 16 जनवरी तक इस क्षेत्र में सक्रिय रहेगा। अधिकारी ने कहा, “13 जनवरी के बाद एक और पश्चिमी विक्षोभ 15 जनवरी से क्षेत्र को प्रभावित करेगा, जिससे 16 जनवरी तक व्यापक रूप से बारिश होगी।”

ये भी पढ़ें…फिल्म ‘एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ के खिलाफ याचिका सुनवाई से पहले ही…

इस बीच लाहौल-स्पीति जिले का केलांग राज्य में सबसे ठंडा रहा, जहां न्यूनतम तापमान शून्य से 9.8 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। शिमला में न्यूनतम तापमान 2.7 डिग्री और मनाली में एक डिग्री दर्ज किया गया। धर्मशाला में न्यूनतम तापमान 4.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ, जबकि कुफरी में यह शून्य से 1.1 डिग्री नीचे और डलहौजी में 0.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ।

एक सरकारी प्रवक्ता ने आईएएनएस को यहां को बताया कि 13 जनवरी तक भारी बर्फबारी और भूस्खलन की आशंका अधिक होने के कारण ऊंचाई वाले स्थानों पर नहीं जाने के लिए एक एडवाइजरी जारी की गई है। उन्होंने कहा कि मनाली के पर्यटक स्थलों जैसे सोलांग, ब्यास कुंड, नेहरू कुंड, गुलाबा और मरही के आसपास के बर्फीले इलाकों में भी जाने से बचना चाहिए। कुल्लू प्रशासन ने निवासियों को किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए घर के अंदर रहने की सलाह दी है। मोटर चालकों को चेतावनी दी गई है कि है वे अंदरूनी हिस्सों में ड्राइव करते समय सावधानी बरतें क्योंकि भारी बर्फ के साथ सड़क के किनारे भूस्खलन की आशंका अधिक होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here