एचएमवी में साहित्य का संकलन विषय पर अंतर्राष्ट्रीय वर्कशाप का आयोजन….

0
2

जालन्धर। हंसराज महिला महाविद्यालय जालन्धर के पोस्ट ग्रैजुएट हिंदी, पंजाबी व अंग्रेजी विभाग द्वारा कालेज प्राचार्या प्रो. डॉ. अजय सरीन के दिशानिर्देशानुसार साहित्य का संकलन विषय पर अंतर्राष्ट्रीय वर्कशाप का आयोजन किया गया। वर्कशाप में बतौर रिसोर्स पर्सन सुषमा मल्होत्रा, रिटायर्ड प्रिंसिपल न्यूयार्क सिटी एजुकेशन विभाग, यूएसए तथा पंजाबी साहित्य अकादमी की प्रेज़ीडैंट डॉ. सरबजीत कौर सोहल उपस्थि थे। प्रिंसाइडिंग गेस्ट कुसुम शर्मा व विशेष अतिथि रीटा सेखों थे। प्राचार्या प्रो. डॉ. अजय सरीन, वर्कशाप कन्वीनर नवरूप, ममता व को-आरडीनेटर डॉ. निधि बल ने सभी अतिथियों का स्वागत प्लांटर भेंटकर किया।

ज्योति प्रज्जवलन व डीएवी गान से वर्कशाप का शुभारंभ हुआ। वर्कशाप का कनसेप्ट नोट देते हुए अंग्रेजी विभागाध्यक्षा श्रीमती ममता ने विश्व साहित्य में विभिन्न संस्कृतियों के सुमेल पर बात की। उन्होंने कहा कि वर्तमान में साहित्य की कोई सीमाएं नहीं है तथा साहित्य का संकलन करने का बेहतरीन तरीका अनुवाद है। प्राचार्या डॉ. सरीन ने अपने सम्बोधन में कहा कि साहित्य भावनाओं को प्रकट करने का बेहतरीन माध्यम है तथा भाषाओं की सीमाओं में साहित्य को नहीं बांधा जा सकता। इस अवसर पर डीन इनोवेशन डॉ. रमनीता सैनी शारदा ने स्वरचित कविता पढ़ी। श्रीमती सुषमा मल्होत्रा ने यूएसए में बतौर विश्व भाषा हिंदी विषय पर सम्बोधित किया। उन्होंने अमेरिका की शिक्षा प्रणाली व स्टारटॉक प्रोग्राम के बारे में विस्तारपूर्वक बताया।

उन्होंने अपनी एसोसिएशन के बारे में भी बताया जोकि भारतीय प्रवासियों को अमेरिकन प्रणाली में क्रैडिट एकत्र करने में सहायता करनी है। डॉ. सरबजीत कौर सोहल ने जीवन में साहित्य की महत्ता पर बात की। उन्होंने कहा कि साहित्य आपके आइडिया को और शुद्ध कर देता है। उन्होंने श्रोताओं को कविताएं भी सुनाई। कुसुम शर्मा ने प्राचार्या डॉ. सरीन का वर्कशाप आयोजन के लिए धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि हमारे शब्दों में बहुत ताकत है तथा इन्हें सोच समझकर ही प्रयोग करना चाहिए। कुलजीत कौन ने अंत में सभी का धन्यवाद किया। राष्ट्रगान के साथ वर्कशाप का समापन हुआ। इस अवसर पर अंग्रेजी, हिंदी व पंजाबी विभाग के सभी अध्यापकगण व विद्यार्थी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here