कौशल भारत के लिए हिमाचल प्रिंर्टस एसोसिएशन ने एनएसटीआई के साथ मिलाया हाथ

0
65

प्रिंटिग, पैकेजिंग उद्योगों को छ: महीने तक फ्री में मिलेंगे ट्रेनी स्टुडेंन्टस

बद्दी/सचिन बैंसल। केन्द्र सरकार की महत्वकांक्षी योजना कौशल भारत को घर द्वार तक पहुंचाने के लिए नेशनल स्किल प्रशिक्षण संस्थान शिमना ने हिमाचल पिं्रट्र्रस एसोसिएशन के साथ समझौता किया है। जिसमें आरडीएसई के रिजनल डायरेक्टर एन एस गबरयाल मु य वक्ता के रूप से उपस्थित हुए। उनके साथ सहायक रिजनल डायरेक्टर आरडीएसई शिमला मोहिन्दर लाल, आरके गौडा, एनएसटीआई के प्रिंसिपल एमएल वर्मा, फैक्लटी सुभाष कुमार विशेष रूप से उपस्थित हुए। जानकारी देते हुए एनएस गबरयाल ने कहा कि महिलाओं को आत्म निर्भर बनाने के लिए केन्द्र सरकार ने अनेकों योजनाएं चलाई हैं। इसी के तहत किसी भी प्रिंटिग उद्योग, फार्मा उद्योग, डिजिटल पिंटिंग एवं पैकेजिंग उद्योग, फोटो स्टुडियो आदि डिजाइनर अथवा स्र्टाट-अप के तहत अपना भविष्य तलाश रहे युवा, युवतियों के लिए यह बहुत ही सुनहरा अवसर है। और हिमाचल के विद्यार्थीयों को इसे हाथों हाथ लेना चाहिए। इस स्कीम के तहत सरकार छ: महीने की बेसिक थ्योरी बेसड पढाई शिमला स्थित कै पस में करवाती है तथा उसे व्यहारिक तौर पर सीखने के लिए अलग अलग फार्मा, प्रिंटिग, पैकेजिंग तथा फोटो स्टुडियो आदि में छ महीने का प्रैक्टिल कोर्स करवाती है। इससे जहां बच्चों में व्यवहारिक निखार आता है वहीं छोटे उद्योगपतियों को कुशल कारीगर भी आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं। हिमाचल पिं्रट्र्रस एसोसिएशन के अध्यक्ष डाक्टर विक्रम बिन्दल ने सरकार की कल्याणकारी योजनाओं की सराहना करते हुए कहा कि अभी तक छोटे उद्यमी कुशल कारीगर पैदा करते थे। और जब कारीगर की कुशलता में निखार आ जाता था तो वह नौकरी छोड कर कहीं और चला जाता था। जिससे छोटे उद्योगों का बहुत नुकसान होता था। लेकिन अब अकुशल कारीगर सरकार के माध्यम से आने के उपरान्त छोटे उद्योगों की आर्थिकी में सुधार आयेगा। क्योंकि शुरू के छ महीनों तक उद्यमी को उसे कोई भी पैसा नहीं देना है। और अगले छ महीने के बाद फिर उद्यमी चाहे तो संस्थान से और छात्रों की मांग कर सकता है। ऐसी सरकार की कल्याणकारी योजनाएं छोटे उद्योगों तथा कुशल कारीगरों को आगे ले जाने में मील का पत्थर साबित होगी। इसलिए हमें स्कीमों का ज्यादा से ज्यादा प्रसार करना चाहिए। इस अवसर पर हिमाचल पिं्रर्टस एसोसिएशन के अध्यक्ष डाक्टर विक्रम बिन्दल, महासचिव रमेश शर्मा, पूजा प्रिंर्टस के मुकेश सिंगला, बालाजी ग्राफिक्स के अनुपम अग्रवाल, फारचुनर पैकेजिंग के अनुराग, वरसेटाईल प्रिंट के जय सोनी, अराईज प्रिंट पैक के गौरव, एसपीपीआई के गौरव बेनीवाल, ओमसाई ग्राफिक्स के किशोर ठाकुर आदि डेड दर्जन से अधिक उद्योगपति शामिल हुए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here